Advertisment

वृंदावन या मथुरा, कहां जाएं होली मनाने, जानें से पहले जरूर चेक करें वहां का शेड्यूल

इस दौरान यहां लठमार होली, फूलों की होली, विधवा होली और रास-लीला जैसे विभिन्न रीति-रिवाज संपन्न होते हैं। यही कारण है कि होली का त्यौहार विश्व भर से लोगों को आकर्षित करता है और विभिन्न मंदिरों में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित होते हैं।

New Update
holli

होली

ब्रज की होली यदि किसी ने एक बार देख ली तो वह जीवन भर नहीं भूल पाता है। यही कारण है कि होली का पर्व मनाने के लिए देशभर से लोग मथुरा या वृंदावन पहुंचते हैं। ऐसे में यदि आप भी होली मनाने के लिए मथुरा-वृंदावन जाने की योजना बना रहे हैं तो वहां संपन्न होने धार्मिक व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का शेड्यूल एक बार जरूर चेक कर लें। इस दौरान यहां लठमार होली, फूलों की होली, विधवा होली और रास-लीला जैसे विभिन्न रीति-रिवाज संपन्न होते हैं। यही कारण है कि होली का त्यौहार विश्व भर से लोगों को आकर्षित करता है और विभिन्न मंदिरों में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित होते हैं। इस साल 25 मार्च 2024 को होली मनाई जाएगी। मथुरा-वृंदावन में होली उत्सव एक सप्ताह पहले ही शुरू हो जाता है। बरसाना में 17 मार्च को लड्डू होली के साथ इस त्योहार की शुरुआत हो चुकी है। जिसमें महिलाएं पुरुषों पर लड्डू फेंकती हैं, जो गोपियों द्वारा भगवान कृष्ण को छेड़ने के भाव को दर्शाता है।
8 मार्च को बरसाना में लट्ठमार होली खेली गई। इस सांस्कृतिक उत्सव के दौरान महिलाएं पुरुषों पर लाठी बरसाती है। इस उत्सव में मथुरा के पुरुष विशेष रूप से बरसाना पहुंचते हैं और उत्साह पूर्वक आयोजन में हिस्सा लेते हैं।

Advertisment

19 मार्च 2024
लट्ठमार होली बाद 19 मार्च को नंदगांव में भी इसी तरह की प्रथा का पालन किया जाता है, जब बरसाना के पुरुष शहर में आते हैं और महिलाओं को हल्के-फुल्के अंदाज में लाठियों से छेड़ते हैं। गोपियों के स्थान पर खड़ी महिलाएं उन्हें लाठियों से भगाती हैं, जो होली पर भगवान कृष्ण और गोपियों के बीच होने वाले हर्षोल्लास का प्रतीक है।

20 मार्च 2024 फूलों की होली
इसके बाद 20 मार्च को वृंदावन में फूलों की होली खेली जाएगी। इस दौरान वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर में भगवान कृष्ण पर फूलों की वर्षा की जाती है। इसके बाद सभी लोग एक-दूसरे पर फूलों की पंखुड़ियां फेंक कर होली खेलते हैं।

21 मार्च 2024 गोकुल में लठमार होली
मथुरा से करीब 15 मील दूर गोकुल में लट्ठमार होली मनाई जाएगी। यह प्रथा भी लट्ठमार होली के समान है। महिलाएं लड़कों को लट्ठों की बजाय छोटी-छोटी डंडियों से धीरे से पीटती हैं।

23 मार्च 2024 को विधवा होली
वृन्दावन आश्रमों में रहने वाली विधवाएं इस जीवंत उत्सव में भाग लेती है और एक-दूसरे को रंग लगाती है। ये ऐसी महिलाएं होती हैं, जो अपने पतियों को खो चुकी हैं। कई खुशियों और उत्सवों से वंचित जीवन जीती हैं, लेकिन होली का उत्सव पूरे उत्साह के साथ मनाती है।

Advertisment
Latest Stories
Advertisment