Advertisment

बिना पर्याप्त आराम किए फ्लाइट उड़ा रहे थे पायलट, एयर इंडिया पर ₹80 लाख का लगा जुर्माना

एयरलाइन कंपनियों को रेग्युलेट करने वाले संस्था DGCA ने टाटा समूह के नियंत्रण वाली एयर इंडिया पर एक बार फिर जुर्माना लगाया है। इस बार एयर इंडिया को जुर्माने के तौर पर 80 लाख रुपये देने होंगे।

New Update
AAA

Pilots were flying

बीते फरवरी महीने में एयर इंडिया पर व्हील चेयर से जुड़े नियम उल्लंघन को लेकर 30 लाख रुपये का जुर्माना लगा था। आरोप था कि एयर इंडिया के कर्मचारियों ने 80 वर्षीय यात्री को व्हीलचेयर नहीं दी थी। इसके बाद यात्री की मौत हो गई थी।

Advertisment
अब क्या लगा है आरोप
एयर इंडिया पर ताजा जुर्माना उड़ान सेवा अवधि सीमित करने और चालक दल के लिए थकान प्रबंधन प्रणाली से संबंधित मानदंडों का उल्लंघन करने के लिए लगाया गया है। नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने जनवरी में एयर इंडिया का मौके पर ऑडिट किया था। इस दौरान जमा किए गए सबूतों के आधार पर यह फैसला किया गया है।
नहीं मिला पर्याप्त आराम
नियामक ने कहा- रिपोर्टों और सबूतों के विश्लेषण से पता चला कि एयर इंडिया लिमिटेड ने कुछ मामलों में 60 साल से अधिक उम्र के दोनों चालक दल के सदस्यों के साथ उड़ान भरी थी। बयान के मुताबिक एयरलाइन ने चालक दल को पर्याप्त साप्ताहिक आराम और लंबी उड़ानों से पहले और बाद में पर्याप्त आराम देने में कोताही बरती। नियामक ने एक मार्च को उल्लंघनों के संबंध में एयर इंडिया को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। इस नोटिस पर एयरलाइन के जवाब को संतोषजनक नहीं पाया गया।
फरवरी में जुर्माने की वजह
दरअसल, मुंबई एयरपोर्ट पर एक 80 साल के यात्री को व्हीलचेयर उपलब्ध नहीं कराने के मामले में एयर इंडिया पर 30 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया था। इसके साथ ही सभी एयरलाइन कंपनियों को इस बारे में एक एडवाइजरी भी जारी की गई। इसके मुताबिक जिन यात्रियों को विमान पर चढ़ने या उतरने के दौरान मदद की जरूरत होती है, उनके लिए पर्याप्त संख्या में व्हीलचेयर की व्यवस्था होनी चाहिए।
Advertisment
Latest Stories
Advertisment