Murder news : 3 साल पहले मर्डर, 8 दिन बाद मिला था कंकाल और अब हुआ अंतिम संस्कार... हैरान कर देगी ये मर्डर मिस्ट्री

उस लड़की की उम्र महज 19 साल थी। तीन साल पहले अचानक वो अपने घर से लापता हो गई थी। घरवालों ने उसे बहुत तलाश किया लेकिन वो नहीं मिली। फिर 8 दिन बाद उस लड़की की जली हुई लाश अचानक गांव के एक खेत से बरामद होती है। चेहरा बुरी तरह जल चुका था।

author-image
By priyanshi
New Update
14014

murder mystery

शिनाख्त मुश्किल थी लेकिन बावजूद इसके लापता लड़की के घरवाले दावा करते हैं कि मरने वाली उनकी ही बेटी थी। लेकिन इस मामले में पुलिस ने जिस तरह से तफ्तीश की, वो बेहद हैरान करने वाला है। इस मामले में लड़की की शिनाख्त करने में तीन साल लग गए।और इस पूरे मामले की कहानी हैरान करने वाली है।

Advertisment

ये कहानी है उत्तर प्रदेश के इटावा जिले की जहां थाना जसवंतनगर इलाके में चक सलेमपुर गांव है। 19 सितंबर 2020 को रीता नाम की 19 वर्षीय लड़की अपने घर से लापता हो जाती है, तो उसके परिवारवाले उसे खोजने में जुट जाते हैं। जब रीता नहीं मिलती है, तो परिजन पुलिस में गुमशुदगी की शिकायत करने भी जाते हैं। लेकिन उसके आठ दिन बाद ही गांव में एक खेत में उसे लड़की का जला हुआ कंकाल बरामद होता है।

लड़की के माता-पिता चप्पल, अंगूठी और कुछ सामान से उसकी पहचान रीता के तौर पर करते हैं। वो उस मुर्दा जिस्म को अपनी बेटी रीता की लाश बताते हैं. लेकिन संबंधित थाने की पुलिस उनको वो लाश नहीं देती. पुलिस जांच पुख्ता करने की बात कहती है. इसके बाद मामला और उलझ जाता है। आखिरकार बाद में पुलिस लाश की डीएनए जांच करवाती है, लेकिन उसकी रिपोर्ट क्लियर नहीं आती। इसके बाद परिजन दोबारा अधिकारियों के चक्कर काटते हैं और कोर्ट के आदेश पर फिर से लाश की डीएनए जांच होती है।

इस बार भी रिपोर्ट में मिसमैच ही आता है। इन हालात के चलते लड़की की लाश को पोस्टमॉर्टम हाउस के डीप फ्रीजर में रखा जाता है। समय बीतता जाता है। और इस तरह से 3 साल बीत जाते हैं। ऐसे हालात में परिजन लगातार अपने दावे पर कायम रहते हैं और अधिकारियों से शिकायत के बाद अंत में इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संजय कुमार इसकी जांच तत्कालीन एसपी सिटी कपिल देव सिंह को सौंपते हैं।

एक बार फिर से यानी तीसरी बार लाश का डीएनए जांच के लिए हैदराबाद भेजा जाता है. तीसरी बार जांच रिपोर्ट सही आती है. परिजनों का दावा सच साबित होता है और लड़की की लाश या यूं कहें कि कंकाल 31 जनवरी 2023 को मजिस्ट्रेट और अधिकारियों के निगरानी में चक सलेमपुर में मौजूद उनके खेत में दफनाया दिया जाता है। 

अब रीता की मां का रो-रो कर बुरा हाल है. उसके भाई कहते हैं कि उनको इंसाफ चाहिए। जिन लोगों ने उनकी बेटी को जलाया है। उसकी हत्या की है. उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। इस मामले में मिली भगत करने वाले दोषी पुलिसकर्मियों पर भी कार्रवाई की जानी चाहिए।

Advertisment
Latest Stories