Advertisment

चौ. चरण सिंह समेत चार हस्तियों को मिला भारत रत्न, आडवाणी को घर जाकर सम्मान देंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने पूर्व प्रधानमंत्रियों पी वी नरसिंह राव, चौधरी चरण सिंह, कर्पूरी ठाकुर और एमएस स्वामिनाथन को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया। बता दें कि पूर्व उपप्रधानमंत्री और भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी को भी भारत रत्न दिया जाना है।

author-image
By priyanshi
New Update
aaa

Ch. Four celebrities

देश। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने पूर्व प्रधानमंत्रियों पी वी नरसिंह राव, चौधरी चरण सिंह, कर्पूरी ठाकुर और एमएस स्वामिनाथन को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया। बता दें कि पूर्व उपप्रधानमंत्री और भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी को भी भारत रत्न दिया जाना है। हालांकि उनकी खराब सेहत और उम्र को देखते हुए रविवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू खुद उनसे मुलाकात करने उनके आवास पर जाएंगी और यह सम्मान प्रदान करेंगी। 

Advertisment

बता दें कि केंद्र ने इस साल पांच हस्तियों को भारत रत्न देने का ऐलान किया था। 2014 में नरेंद्र मोदी की अगुआई में भाजपा की सरकार बनने के बाद महामना मालवीय, पंडित अटल बिहारी वाजपेयी, प्रणब मुखर्जी, भूपेन हजारिका और नानाजी देशमुख को सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाजा जा चुका है। अब तक कुल 53 लोगों को भारत रत्न दिया गया है। 

3 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न देने का ऐलान किया था। बता दें कि आडवाणी की उम्र 96 साल की है और वह बीमार भी रहते हैं। ऐसे में  उनके आवास पर पहुंचकर 31 मार्च को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू उन्हें सम्मानित करेंगी। वाजपेयी और नानजी देशमुख के बाद आडवाणी ऐसे तीसरे आरएसएस से जुड़े नेता हैं जिन्हें भारत रत्न दिया जा रहा है। 

वहीं बात करें पीवी नरसिम्हा राव की तो वह देश के नौवें प्रधानमंत्री थे। उनके कार्यकाल में ही उदारीकरण की नीति अपनाई गई थी और भारत की अर्थव्यवस्था का रास्ता पूरी दुनिया के लिए खोल दिया गया था। इसलिए उन्हें नए युग का प्रवर्तक माना जाता है। वहीं चौधरी चरण सिंह पांचवें प्रधानमंत्री थे। किसानों के हित में फैसले लेने के लिए उन्हें जाना जाता है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को  जननायक के नाम से जाना जाता है। वह दो बार बिहार के सीएम और डिप्टी सीएम रहे। उनके साधारण जीवन और ऊंचे विचारों की वजह से आज भी उनका नाम सम्मान से लिया जाता है। 

Advertisment
Latest Stories
Advertisment