Jabalpur News: संस्कृत का पेपर नहीं दे पाए छात्र, रांझी खालसा स्कूल में हंगामा

दसवीं बोर्ड की परीक्षा कई विद्यार्थियों को परीक्षा न देने पर परिजनों व एबीवीपी ने स्कूल परिसर में जोरदार हंगामा मचा दिया। मामले की जानकारी लगते ही मौके पर पुलिस भी पहुंच गई। बताया जा रहा है कि आज 9 फरवरी शुक्रवार के दिन दसवीं कक्षा का संस्कृत का पेपर था।

author-image
By Shivansh Shukla
New Update
 Students could not give Sanskrit paper

Students could not give Sanskrit paper

जबलपुर। रांझी क्षेत्र स्थित खालसा स्कूल में सुबह के वक्त जब छात्र स्कूल पेपर देने पहुंचे तो उनमें से 6 छात्रों परीक्षा प्रबंधकों द्वारा पेपर देने नहीं दिया गया। ये छात्र लक्ष्मी नारायण माध्यमिक स्कूल व ज्ञान उदय स्कूल के बताए जा रहे हैं। मामले की जानकारी लगते ही छात्रों के परिजन भी स्कूल परिसर में पहुंच गए, जिन्होंने हंगामा मचाना शुरू कर दिया।

Advertisment

 Students could not give Sanskrit paper

इस संबंध में एक परिजन ने बताया कि उनका बेटा सुबह ठीक 8 बजकर 35 मिनट पर  खालसा स्कूल पेपर देने के लिए पहुंच गया था। वह जैसे ही स्कूल के गेट पर पहुंचा तो उसे गेट बंद पाया मिला। इसी प्रकार कुल 8 छात्र परीक्षा देने अंदर नहीं जा पाए। परी जिन्होंने बताया कि स्कूल प्रशासन ने सुबह 8 बजकर 30 मिनिट पर ही गेट बंद कर दिए। जबकि गेट बंद करने का समय 8 बजकर 45 मिनिट है। 

Advertisment

 Students could not give Sanskrit paper

मौके पर पहुंचा पुलिस बल 
हंगामें की जानकारी लगते हैं मौके पर रांझी थाने की पुलिस भी पहुंच गई। इधर दूसरी तरफ परिजनों ने कहा कि स्कूल प्रशासन की लापरवाही के चलते उनके बच्चों को परीक्षा देने नहीं दिया गया। जिससे उनका साल बर्बाद होने की कगार पर आ गया है। वही इस संबंध में स्कूल प्रशासन का कहना है कि उन्होंने शासन के निर्देशानुसार तय समय पर ही स्कूल का गेट बंद किया था।

छात्रों ने कहा हमारा क्या कसूर 
पेपर ना देने न मिलने से खालसा स्कूल में पहुंचे छात्र उदास हो गए। छात्रों ने बताया कि उन्हें दसवीं बोर्ड की गंभीरता मालूम है। जिसके चलते वे सही समय पर स्कूल पेपर देने के लिए पहुंचे थे। छात्रों ने बताया कि उन्होंने संस्कृत विषय को लेकर बहुत तैयारी की थी, लेकिन परीक्षा न देने मिलने से उनको बहुत बड़ा नुकसान हो गया है। जिसका  खामियाजा उन्हें आगे भगत ना पड़ेगा।

Advertisment
Latest Stories