Advertisment

Jabalpur News: थमेंगे रेल के पहिए, नहीं बनेंगे गोला बारूद... 1 मई से कर्मचारियों की अनिश्चित कालीन हड़ताल का ऐलान

केंद्रीय कर्मचारी संगठनों और फेडरेशनों ने पुरानी पेंशन प्रणाली बहाल करने की मांग को लेकर 1 मई से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का ऐलान कर दिया है। इस बार हड़ताल में रेलवे कर्मचारी भी शामिल होंगे।

New Update
ट्रेनों के रूट बदले

Railway wheels will stop

जबलपुर। इस ऐलान के साथ ही केंद्र सरकार के कर्मचारियों और राज्य सरकार के कर्मचारियों का 20 साल से चला आ रहा संघर्ष अब अपने चरम पर आ गया है। उल्लेखनीय है कि पुरानी पेंशन योजना की बहाली के लिए संयुक्त मंच (जेएफआरओपीएस) जो पिछले एक साल से अधिक समय से अपने कर्मचारियों के लिए सरकार द्वारा शुरू की गई बिना गारंटी वाली राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) को खत्म करने की मांग के साथ एक राष्ट्रीय आंदोलन का नेतृत्व कर रहा है।

बताया जाता है कि 28 फरवरी को आयोजित जेएफआरओपीएस की कोर कमेटी की बैठक में यह निर्णय लिया गया कि शिक्षण कर्मचारियों सहित सभी केंद्र सरकार के कर्मचारी और राज्य सरकार के कर्मचारी एक सूत्री मांग के साथ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। नो गारंटी एनपीएस और सीसीएस (पेंशन) नियम 1972 (अब 2021) के तहत परिभाषित और गारंटीकृत पेंशन को बहाल करने के लिए सभी यूनियन और एसोसिएशन और उनके फेडरेशन 19 मार्च को सरकार ( नियोक्ता) को हड़ताल का नोटिस जारी करेंगे और अनिश्चितकालीन हड़ताल 1 मई अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक वर्ग दिवस से शुरू होगी।

यहां गौरतलब है कि पूर्व में हड़ताल के लिए मतदान किया और लगभग 100 प्रतिशत कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल के पक्ष में मतदान किया था। हड़ताल संसद चुनाव के बीच में शुरू होगी। सवाल उठता है कि इस दौरान क्या इस दौरान देश थम जाएगा, ट्रेनों के पहिए थम जाएंगे, क्या रक्षा उत्पादन ठप हो जाएगा।

Advertisment
Latest Stories
Advertisment