Advertisment

Jabalpur News: कांग्रेस उम्मीदवार पूरे उत्साह के साथ पहुंचे नामांकन करने, पूर्व मंत्री घनघोरिया की चुनौती.. हारे तो क्या मुख्यमंत्री देंगे इस्तीफा

लोकसभा चुनाव के जबलपुर सीट से उम्मीदवार दिनेश यादव ने बुधवार को सैंकड़ो कार्यकर्ताओं के साथ नामांकन दाखिल किया। इस अवसर पर राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा और पूर्व मंत्री विधायक लखन घनघोरिया, पूर्व विधायक संजय यादव,नगर अध्यक्ष सौरभ शर्मा आदि उपस्थित थे।

author-image
By Shivansh Shukla
New Update
Jabalpur News: Congress candidates

जबलपुर। नामांकन फार्म दाखिल करने के बाद मीडिया से चर्चा के दौरान पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया से पूछा गया कि मुख्यमंत्री मोहन यादव तो जबलपुर लोकसभा सीट 5 लाख वोटो से जीतने का दावा कर रहे हैं। इस पर का पलटवार करते हुए पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं कांग्रेस विधायक लखन घनघोरिया ने कहा कि क्या जबलपुर लोकसभा सीट हारने के बाद मुख्यमंत्री अपने पद से इस्तीफ़ा देंगे। 

Advertisment

उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में दिनेश यादव का नाम सामने आने के बाद भाजपा को भी हारने का एहसास होने लगा है।वही मीडिया कर्मियों द्वारा छिंदवाड़ा सीट पर हार-जीत की स्थिति में श्रेय लेने की बात पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया ने कहा कि जो हारता है वह जिम्मेदारी लेता है,और जो जीतता है उसे श्रेय भी मिलता है । पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया ने कहा कि हम वो लोग हैं, जिन्होंने अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी। इसलिए हम इन नामुरादों से डरते नहीं है। उन्होंने कहा कि ना हम जीत पर इतराते हैं, और ना ही हार पर इतराते हैं। 

वहीं पूर्व विधायक निलेश अवस्थी के भाजपा में जाने की अटकलें पर मंत्री श्री घनघोरिया ने कहा कि स्थिति सामने आने पर ही कुछ कहा जा सकता है। इससे पहले जो कांग्रेस पार्टी छोड़कर गए हैं, वे कितने गज के थे सबको पता है।आखिर में उन्होंने कहा की जरूरत के मुताबिक दुआ बदलते हैं, ऐसे लोग जो खुद नहीं बदले वो खुदा बदलते हैं ।


प्रजातंत्र को बचाने देना होगा साथ
नामांकन रैली में पहुंचे राज्यसभा सदस्य एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता विवेक तंखा ने कहा कि देश में प्रजातंत्र को बचाने जनता को अब विपक्ष पार्टी के साथ खड़ा होना होगा। उन्होंने कहा कि देश में इमरजेंसी के दौरान एक ऐसा समय था जब प्रजातंत्र चुप था, लेकिन बाद में उन्होंने जनतंत्र में अपनी शक्ति दिखाई थी। तत्कालीन सरकार पर निशाना साधते हुए राज्यसभा विवेक तंखा ने कहा कि आप कितनी भी कोशिश कर ले भारत कभी कांग्रेस मुक्त नहीं हो सकता।

Advertisment

अगर कांग्रेस मुक्त भारत होगा तो विपक्ष में कोई नहीं होगा। इसका मतलब तो सिर्फ यह होगा कि आने वाले चुनाव में सिर्फ एक ही पार्टी रह जाएगी। उन्होंने कहां की इस बार विपक्षी पार्टी को सत्ता पर आने का अवसर दें, और एक नए भारत की शुरुआत देखें। 

Advertisment
Latest Stories
Advertisment