Advertisment

Jabalpur News: देश में गौ हत्या बंद करने के आव्हान पर 10 मार्च को 10 बजकर 10 मिनिट पर प्रतिकात्मक बंद का ऐलान

गौमाता प्रतिष्ठा आंदोलन के क्रम मे गौमाता को राष्ट्रमाता बनाने हेतू 3 मार्च को बगलामुखी मंदिर, शंकराचार्य मठ जबलपुर के तत्वाधान में श्री चैतन्यानंद जी ब्रह्मचारी की अध्यक्षता में सभी नगरवासियों से आगामी 10 मार्च को प्रतिकात्मत रूप से बंद का आवाहन किया गया है।

New Update
Jabalpur News: Announcement of symbolic bandh at 10.10 am on March 10 on the call to stop cow slaughter in the country

Announcement of symbolic bandh at 10.10 am on March 10

जबलपुर। इस सम्बन्ध में ब्रह्मचारी जी ने बताया कि हमारे शास्त्र हमें बताते हैं कि गौमाता सर्वदेवमयी है। इनकी पूजा करने से 33 करोड देवी-देवताओं की पूजा एक साथ हो जाती है, इनका स्थान सर्वोपरि है।हमारे देश का यह भी गौरवपूर्ण इतिहास रहा है कि चक्रवर्ती सम्राट् दिलीप और भगवान् राम कृष्ण आदि ने भी गौसेवा की है। परन्तु बहुसंख्यक गौ-पूजक सनातनियों के इस देश में आज गौमाता की हत्या हो रही है, जो हम सबके लिए कलंक है।

Advertisment

किसी भी सरकार ने नहीं दिया ध्यान
इसी कलंक को भारत की भूमि से मिटाने के लिए पूर्व में भी अनेक सन्तों ने धर्मसम्राट् स्वामी श्री करपात्री जी महाराज एवं शङ्कराचार्यों के नेतृत्व में गौरक्षा आन्दोलन किया था। तब से अब तक अनेक सरकारें आईं पर किसी ने भी गौहत्या बन्दी की उद्घोषणा नहीं की बल्कि मुग़लों, आक्रमणकारियों और अंग्रेजों द्वारा की जा रही गो हत्या को बढ़ावा देती रहीं।

अब जब देश में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है और रामजी के आने की बात कही जा रही है तब भी अमृत (दूध) देने वाली गोमाता की हत्या होती रहे तो यह सरासर अन्याय है और आम हिन्दू मतदाताओं को पाप में डालने वाला काम है जिसे किसी भी दशा में रोका जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसीलिए हम सब हिन्दू सनातनी चाहते हैं कि भारत में गोहत्या को दण्डनीय अपराध माना जाए और गोमाता को पशुसूची से निकालकर राष्ट्रमाता का सम्मान दिया जाए। 

सबको आना होगा आगे
श्री चैतन्यानंद जी ब्रह्मचारी ने कहा कि अब बहुत समय बीत चुका है। भारत से गोहत्या बन्द करने के लिए आप सबको आगे आना है। इसके लिए आगामी 10 मार्च को पूर्वाह्न 10 बजे केवल 10 मिनट के लिए अपने-अपने घर, कार्यालय अथवा प्रतिष्ठान के बाहर निकलकर गोमाता के प्रति अपने हृदय की भावना को व्यक्त करेंगे । पूरे देश में यह बन्दी रखकर गोरक्षा का सन्देश देना है।

Advertisment
Latest Stories
Advertisment