Advertisment

M.P. News : अपने पोते को बचाने के लिए नहर में कूदे थे दादा, दोनों की मौत

भांडेर थाना क्षेत्रांतर्गत रविवार दोपहर में करीब साढ़े बारह बजे वैधारी-पथरिया ततारपुर से होकर निकली बसवाह (पारीछा) नहर में पथरिया ततारपुर निवासी वृद्ध भागीरथ पाल और उसका पोता मुन्नालाल पाल बह गए थे।

author-image
By aryasamay
New Update
dead body

both died

भांडेर। भांडेर थाना क्षेत्रांतर्गत रविवार दोपहर में करीब साढ़े बारह बजे वैधारी-पथरिया ततारपुर से होकर निकली बसवाह (पारीछा) नहर में पथरिया ततारपुर निवासी वृद्ध भागीरथ पाल और उसका पोता मुन्नालाल पाल बह गए थे। दोनों के शव घटना के अगले दिन अलसुबह सोमवार को ग्रामीणों ने नहर का पानी उतरते ही ढूंढ़ निकाले।

Advertisment

इससे पहले नहर में बहे दादा और पोते की तलाश में ग्रामीण, पुलिस तथा एसडीआरएफ की टीम घटना वाले दिन रविवार देर शाम तक लगी रही, लेकिन सफलता नहीं मिल पाई थी। जिस वक्त यह घटना घटित हुई थी, उस वक्त नहर में नौ फीट से अधिक पानी मौजूद था। इस पानी प्रवाह दोपहर एक बजे संबंधित विभाग को सूचना दिए जाने के बाद रुकवाया गया, लेकिन नहर का पानी उतरने के लिए सुबह तक का इंतजार करना पड़ा।इधर मृतकों के स्वजन रातभर घटनास्थल के पास डेरा डाले रहे। जब अगले दिन यानी सोमवार को दिन का उजाला हुआ। तब तक नहर का पानी उतर चुका था।

घटनास्थल के पास नहर किनारे मौजूद मृतक के स्वजन और अन्य ग्रामीणों ने अपने स्तर पर नहर में फिर से तलाश शुरू कर दी और इसके लिए अधिक समय नहीं लगा और अलसुबह पौ फटने पर करीब साढ़े पांच और छह बजे के बीच घटनास्थल से करीब डेढ़ सौ फीट के अंतराल में दोनों दादा पोते के शव खोज लिए गए। जिसकी सूचना भांडेर पुलिस को दी गई। पुलिस इन दोनों शवों को भांडेर लाई। वहां पीएम के बाद शवों को उनके स्वजन को सौंप दिया गया। जिनका गांव के मुक्तिधाम पर दोपहर करीब डेढ़ बजे अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मुन्नालाल अपने पिता की इकलौती संतान था। बताया जाता है कि नहर से पानी निकालने के दौरान ही पैर फिसलने से पहले 15 वर्षीय मुन्नालाल नहर में गिरा। जब वहां मौजूद उसके चचेरा भाई कार्तिक ने अपने दादा भागीरथ को चिल्लाकर बताया तो भागीरथ ने बिना पल गंवाए नहर में छलांग लगा दी। बताया जाता है कि भागीरथ तैरना जानते थे। लेकिन नहर के तिरछे और पक्के सपाट किनारे आड़े आ गए।

Advertisment
Latest Stories
Advertisment