Advertisment

MP: 51 साल की CJM ने बेटी को दिया जन्म, लेकिन नहीं देख पाईं उसका चेहरा

बड़ी मन्नतों और प्रार्थनाओं के बाद बच्चे का जन्म हुआ और वह भी प्यारी सी बेटी, लेकिन मां अपने कलेजे के टुकड़े का चेहरा देखने से पहले ही इस दुनिया से रुखसत हो गई।

New Update
asasa

51 year old CJM

मामला मध्य प्रदेश के खरगोन जिले का है, जहां पर 51 वर्षीय सीजेएम ने बेटी को जन्म दिया, लेकिन डिलिवरी के बाद उनकी तबीयत बिगड़ी और उनकी मौत हो गई। वह अपनी नन्हीं परी का चेहरा भी नहीं देख पाई।

डिलिवरी के बाद बिगड़ गई तबीयत
खरगोन न्यायालय में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के पद पर पदस्थ 50 वर्षीय पदमा राजोरे, मूलतः इंदौर के रहने वाली थीं. सीजेएम पदमा राजोरे प्रसूति के लिए 8 जनवरी से मेडिकल अवकाश पर थी। उनका इलाज शहर के निजी अस्पताल में चल रहा था। हालत गंभीर होने पर 10 जनवरी को उन्हें इंदौर रेफर किया। यहां एक निजी अस्पताल उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया। प्रसूति के बाद से उनकी तबीयत बिगड़ने और पीलिया होने पर उन्हें वेंटिलेटर पर रखा। गुरुवार दोपहर तक उनकी सांसे थम गई। उनका अंतिम संस्कार राऊ में किया गया।

2021 में पदस्थ हुई थी खरगोन
न्यायालय के पदस्थ कर्मचारियों ने बताया वे 14 जुलाई 2021 को सीजेएम न्यायालय में न्यायाधीश के पद पर पदस्थ हुई थीं। उन्होंने गर्भवती होने के दौरान पूरे लगभग नौ माह तक न्यायालय में सेवाएं दी। परिजनों ने बताया कि सीजेएम पदमा को प्रसूति के बाद पीलिया हो गया था। इसके बाद उनके स्वास्थ्य में सुधार नहीं आया। इसी के चलते उन्हें सीएचएल अपोलो इंदौर में भर्ती। शुक्रवार को खरगोन के कोर्ट परिसर में कर्मठ और जुझारू महिला जज पदमा राजोरे को 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। सीजेएम के निधन की खबर ने स्थानीय कोर्ट परिसर में हर किसी को गमगीन किया।
Advertisment
Latest Stories
Advertisment